नोएडा में 2 जगह रुकेगी दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन, साढ़े तीन घंटे में पूरा होगा 800 किमी का सफर

नोएडा में 2 जगह रुकेगी दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन, साढ़े तीन घंटे में पूरा होगा 800 किमी का सफर : दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन मथुरा, आगरा, इटावा, कानपुर, लखनऊ, प्रयागराज होते हुए रवाना होगी। दिल्ली से सटे गौतमबुद्धनगर जिले में बुलेट ट्रेन के दो स्टेशन होंगे. रेल मंत्रालय ने इसके निर्माण को मंजूरी दे दी है।
दिल्ली-वाराणसी हाई स्पीड रेल कॉरिडोर बनाने का काम जोरों पर चल रहा है। इस रूट पर दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन चलेगी। यह पूरा खंड 13 स्टेशनों के साथ 813 किलोमीटर का होगा। इन स्टेशनों का दिल्ली में एक अंडरग्राउंड स्टेशन और उत्तर प्रदेश में 12 एलिवेटेड स्टेशन होंगे। दिल्ली से वाराणसी के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन की रफ्तार 330 किमी प्रति घंटा होगी। इस तरह यह ट्रेन दिल्ली से वाराणसी करीब 3 घंटे 33 मिनट में पहुंचेगी. अंडरग्राउंड स्टेशन के लिए 15 किलोमीटर लंबी सुरंग का निर्माण कार्य चल रहा है। फिलहाल ट्रेन से दिल्ली से वाराणसी का सफर पूरा करने में 8-10 घंटे का समय लगता है। लेकिन भविष्य में इसे घटाकर आधे से भी कम कर दिया जाएगा। इस दिशा में बुलेट ट्रेन का काम तेजी से चल रहा है.

दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन मथुरा, आगरा, इटावा, कानपुर, लखनऊ, प्रयागराज होते हुए रवाना होगी। दिल्ली से सटे गौतमबुद्धनगर जिले में बुलेट ट्रेन के दो स्टेशन होंगे. रेल मंत्रालय ने इसके निर्माण को मंजूरी दे दी है।

नोएडा में बुलेट ट्रेन के दो स्टॉपेज


दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन दिल्ली के सराय काले खां स्टेशन से चलेगी और पहला स्टॉपेज नोएडा सेक्टर-148 पर होगा।
बुलेट ट्रेन का अगला पड़ाव नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा। इस तरह सराय काले खां स्टेशन से एक बुलेट ट्रेन को नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे तक पहुंचने में 21 मिनट का समय लगेगा.
एक रिपोर्ट के मुताबिक, नोएडा एयरपोर्ट लिमिटेड ने स्टॉपेज का प्रस्ताव दिया था, जिसे रेल मंत्रालय ने हरी झंडी दे दी है। अब तय हुआ है कि बुलेट ट्रेन भी नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट स्टेशन पर रुकेगी.

Follow us on Gnews

बुलेट ट्रेन का एलिवेटेड स्टेशन


हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के पहले चरण का निर्माण कार्य जारी है। इसके लिए दिल्ली और नोएडा एयरपोर्ट के बीच एलिवेटेड ट्रैक का निर्माण कार्य चल रहा है। यह एलिवेटेड ट्रैक यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे बनाया जा रहा है। इसके लिए यमुना प्राधिकरण ने जमीन मुफ्त दी है।

Read Also: Love Story: अपने नौकर को दिल दे बैठी मालकिन, कुछ ही दिनों में की शादी, खूब हो रहे इस पाकिस्तानी लव स्टोरी के चर्चे

अब तक की तैयारियों के मुताबिक दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट को साल 2029 तक पूरा किया जाना है। करीब 800 किलोमीटर के पूरे हिस्से को तीन चरणों में पूरा किया जाना है। बुलेट ट्रेन को नोएडा एयरपोर्ट से जोड़ने का मकसद यह है कि फ्लाइट से यात्रा करने वाले यात्री तेज रफ्तार ट्रेन का फायदा उठा सकें.

भारत में बुलेट ट्रेन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन कॉरिडोर का निर्माण कार्य भी तेजी से चल रहा है। गुजरात के कई हिस्सों में बड़े पैमाने पर काम हुआ है और इसमें लगातार गति देखी जा रही है. महाराष्ट्र में रेलवे ट्रैक के लिए जमीन आवंटन का मामला अटका हुआ है जिससे इसमें देरी हो रही है.

Follow US On Google NewsClick Here
 Facebook PageClick Here
 Telegram Channel WbseriesClick Here
 TwitterClick Here
 Website Click Here
Join

Hi, My Name is Lalita. I am an expert in writing News articles, I Have 2-3 Years of Experience, If You have any issues You Can Contact me Through Mail- [email protected]

Previous

Love Story: अपने नौकर को दिल दे बैठी मालकिन, कुछ ही दिनों में की शादी, खूब हो रहे इस पाकिस्तानी लव स्टोरी के चर्चे

Next

सलमान खान की प्रीति ज़िंटा के साथ की सालो पहले करी शादी अनदेखी तस्वीरें आई सामने, ये है तस्वीरों के पीछे की सच्चाई