Helplr Telegram Channel

खौफनाक वारदात: राखी वाले हाथों ने ही उजाड़ दी बहनों की दुनिया, इकलौते भाई को बेहद प्यार करती थीं चारों बहन

राखी वाले हाथों ने ही उजाड़ दी बहनों की दुनिया – अनुराधा व ज्योति ने कभी नहीं सोचा होगा कि जिस हाथ पर वे दोनों बचपन से राखी बांधती आ रही हैं। वही हाथ एक दिन उनकी जिंदगी छीन लेगा। जिस भाई ने Apni behan ko रक्षा का वचन दिया था, सिर पर खून ka bhoot सवार हुआ तो उसी भाई ने apni behan ka jindagi chhin li।

बागपत में मृतक बृजपाल ट्रक चालक था और उसका इकलौता बेटा अमरपाल उर्फ लक्ष्य तोमर व चार बेटियां पूजा, आरती, ज्योति व सबसे छोटी अनुराधा थी। पूजा की शादी कुछ साल पहले मेरठ के कल्याणपुर में तो आरती की शादी जिवाना-जिवानी गांव में हुई थी। जबकि ज्योति व अनुराधा अभी अविवाहित थीं। इकलौता भाई होने के कारण सभी बहनें अमरपाल को बहुत प्यार करतीं थीं और हर वर्ष रक्षाबंधन पर उसको राखी बांधतीं थीं। पिछले सप्ताह ही सभी बहनों ने अमरपाल को रक्षा सूत्र बांधा था, लेकिन बहनों को नहीं बता था कि जिस हाथ पर वे राखी बांध रहीं हैं, वही हाथ उनकी जिंदगी छीन लेगा।

अमरपाल की मां शशिप्रभा ने बताया कि आरोपी अमरपाल शराब व जमीन के चक्कर में इतना पागल हो चुका था कि उसे एक बार भी अपनी बहनों व पिता पर तरस नहीं आया। उसकी बहनें चिल्लाती रहीं, लेकिन एक बार भी भाई का दिल नहीं पसीजा।
बृजपाल पर 20, अनुराधा पर 10 aur ज्योति पर किए 6 वार
आरोपी अमरपाल उर्फ लक्ष्य तोमर ने गिरफ्तार किए जाने के बाद पुलिस पूछताछ में बताया कि उसका झगड़ा केवल पिता बृजपाल के साथ था। इसलिए वह पिता ब्रजपाल को मारने की फिराक में था, लेकिन उसे मौका नहीं मिल रहा था। घटना की रात जब ब्रजपाल, ज्योति व अनुराधा सो रही थी, तभी अमरपाल घर में रखा लोहे का नुकीला हथियार उठाकर लाया और सोफे पर सो रहे बृजपाल पर लगभग 20 बार वार किए। लेकिन तभी अनुराधा व ज्योति भी जाग गई, इसलिए उनकी भी हत्या कर दी। उसने अनुराधा पर 10 aur ज्योति पर 6 वार किए।

download This app

Read Also: प्रियंका चोपड़ा ऐसे कपड़ों में पहुंच गईं अवॉर्ड फंक्शन, खुली जैकेट में बार-बार बचानी पड़ी लाज

यहां रिश्तों का हो रहा कत्ल

यहां रिश्तों का खूब कत्ल हो रहा है। पिछले कुछ महीनों से ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जिनमें पिता, मां, भाई, चाचा और बेटे ही अपनों का खून बहा रहे हैं। ऐसे ही मामलों को रोकना पुलिस के लिए भी बड़ी चुनौती है। वहीं, मनोचिकित्सक ऐसे मामलों के लिए तनाव भरी जिंदगी में सामूहिक परिवार नहीं होने के कारण गुस्सा जल्दी आना कारण मानते हैं।

इस बारे में दिगंबर जैन डिग्री कॉलेज की मनोविज्ञान विभाग की अध्यक्ष डॉ. अंशु अग्रवाल नेे बताया कि सामूहिक परिवार नहीं होना इस तरह की घटनाओं का बड़ा कारण है। लोगों को गुस्सा आता है और वह उस गुस्से को नियंत्रित नहीं कर पाते, जिससे इस तरह की घटनाओं को अंजाम देते हैं।

Read Also: निजी अंग और सिर पेड़ से लटके थे: पत्नी से संबंध रखने की खौफनाक सजा, जिसने भी देखा ये मंजर कांप उठा

पिछले कुछ महीनों में हुई घटनाएं

  • बिजरौल में पत्नी ने अनैतिक संबंधों में पति की हत्या कर दी थी।
  • दाहा गांव में Retired CEO ने अपने बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी थी।
  • खेकड़ा में बेटे ने एक साल पहले अपने पिता की हत्या करा डाली थी।
  • बिनौली के शाहपुर बाणगंगा में नलकूप Oprator की बेटे ने हत्या कर दी थी।
  • बिनौली me भाई ने अपनी बहन को मार डाला था।
  • असारा में चाचा ने भतीजे को मार दिया था।
  • बालैनी में मां ने Apni बेटी को मार दिया था।
  • ग्वालीखेड़ा में भतीजे ने Apne चाचा को गला दबाकर मार डाला था।
Follow Us On Google NewsClick Here
 Facebook PageClick Here
 Telegram Channel WbseriesClick Here
 TwitterClick Here
 Website Click Here
Join

Hi, My Name is Pooja, I am expert on writing News Article, I Have 2-3 Years Experience, If You have any issue You Can Contact Through Mail- [email protected]

Previous

निजी अंग और सिर पेड़ से लटके थे: पत्नी से संबंध रखने की खौफनाक सजा, जिसने भी देखा ये मंजर कांप उठा

Next

Online कमाई का झांसा देकर ठगे तीन लाख 39 हजार