Helplr Telegram Channel

Viral News : इस गांव में बिना कपड़े पहने रहते हैं लोग, जानिए वजह

इस गांव में बिना कपड़े पहने रहते हैं लोग – आज हम आपको एक ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं दुनिया में एक ऐसा भी गांव है. जहां के लोग बिना कपड़े पहन रहते हैं। इस गांव में बच्चे और बूढ़े, महिलाएं सभी एक साथ बिना कपड़ो के रहते हैं। आइए नीचे खबर में जानते हैं। पूरी कहानी

Ajab-gajab कोई भी त्यौहार हो लोग रंग बिरंगे कपड़े खरीदने की प्लानिंग पहले से ही कर लेते हैं। कई लोग तो कपड़े खरीदने के इतने शौकीन होते हैं कि आलमारी तक में भी जगह नहीं बन पाता। लेकिन अगर हम आपको कहें कि एक ऐसा गांव हैं जहाँ पूरे का पूरे गांव कपड़े नहीं पहनते। जी हां हम कोई मजाक नहीं कर रहे बल्कि यह बिलकुल सत्य हैं। दुनिया में ऐसा भी एक गांव है, जहां के रहने वाले लोग कभी कपड़ा नहीं पहनते हैं।
आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा कि कहीं गरीबी की वजह से तो ऐसा नहीं है। ऐसे में आपको यह बता दें कि यहां के लोगों के पास धन -दौलत की किसी तरह की कोई कमी नहीं है, इसके बाद भी यहां के लोग ऐसा ही करते हैं। चलिए जानते हैं इसके पीछे क्या कहानी हैं।

इस गांव में धन-दौलत की नहीं है कमी

download This app

ब्रिटेन के हर्टफोर्डशायर में स्थित इस गांव का नाम स्पीलप्लाट्ज हैं। करीब 85 सालों से यहां के लोग बिना कपड़ों के ही रहते हैं। इस गांव के लोग शिक्षित हैं। धन-दौलत की भी कमी नही है लेकिन, इसके बावजूद भी बच्चे, बूढ़े, महिलाएं और पुरुष सभी बिना कपड़ों के ही रहते हैं। बड़ी बात यह हैं कि ऐसा करने में किसी को भी असहज नहीं लगता हैं।

Read Also: 10 ऐसे लोग जिन्होंने टैटू बनवाने की सारी हदें पार कर दी | देखिए video

मिरर की रिपोर्ट के अनुसार, गांव में दो बेडरूम वाले बंगले भी हैं, जिनकी कीमत £85,000 या इससे भी अधिक है। गांव के लोगों के पास मूलभूत सुविधाओं की कोई कमी नहीं है। लेकिन परंपरा और मान्यताओं को मानने वाले लोग बिना कपड़े के ही रहते हैं। हर्टफोर्डशायर के स्पीलप्लाट्ज गांव में न सिर्फ बड़े-बूढ़े बल्कि बच्चे भी बिना कपड़ों के ही रहते हैं। स्पीलप्लाट्ज, जिसका जर्मन में मतलब खेल का मैदान है। इस गांव में पब, स्वीमिंग पूल से लेकर क्लब की भी व्यवस्था हैं। इतना ही नहीं जो भी लोग इस गांव को देखने आते हैं उन्हें भी इन नियमों का पालन करने पड़ते है।

जानिए इसका कारण

यहाँ के लोगो का मानना हैं कि प्रकृतिवादियों और सड़क पर रहने वाले लोगों के बीच कोई अंतर नहीं है। इस पर दुनियाभर में लोगों ने कई डॉक्यूमेंट्री और शॉर्ट फिल्म भी बना चुके हैं।

Follow US On Google NewsClick Here
 Facebook PageClick Here
 Telegram Channel WbseriesClick Here
 TwitterClick Here
 Website Click Here
Join

Hi, My Name is Pooja, I am expert on writing News Article, I Have 2-3 Years Experience, If You have any issue You Can Contact Through Mail- [email protected]

Previous

कैटरीना कैफ़ को लेकर आई बुरी ख़बर, पहुँची बिना पति विक्की के अकेली ही खुद का इलाज करवाने ये है बड़ी वजह

Next

द हंड्रेड में इस खिलाड़ी ने बरपाया कहर, बल्ले से बरसा तो गेंद से घायल