Helplr Telegram Channel

93 करोड़ की लागत से बन रहा तिब्बती अस्पताल ‘सोवा रिग्पा’ जल्द ही काशी को सौगात

93 करोड़ की लागत से बन रहा तिब्बती अस्पताल ‘सोवा रिग्पा’ जल्द ही काशी को सौगात:- मोदी-योगी सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश के वाराणसी में भगवान बुद्ध के उपदेश स्थल सारनाथ को ‘सोवा रिग्पा’ का उपहार दिया जाएगा। उम्मीद है कि 93 करोड़ की लागत से बना 100 बिस्तरों वाला प्राचीन तिब्बती चिकित्सा प्रणाली अस्पताल दिसंबर तक उपयोग के लिए तैयार हो जाएगा। सारनाथ में केंद्रीय उच्च तिब्बती शिक्षा संस्थान एक अस्पताल बना रहा है। यह अपने पहले चरण के निर्माण के अंतिम चरण में है। इलाज के अलावा ‘सोवा रिग्पा’ शिक्षण और शोध भी करेगी। इसके गठन के परिणामस्वरूप, तिब्बती दवा अब कश्मीर, मुंबई, बिहार, उत्तर प्रदेश और भारत के अन्य हिस्सों में रहने वाले लोगों के लिए उपलब्ध होगी। मार्च 2019 ने ‘सोवा रिग्पा’ के उत्पादन की शुरुआत को चिह्नित किया।

साथ ही ‘सोवा रिग्पा’ असाध्य रोगों को दूर करता है
आयुर्वेद के समान तिब्बती चिकित्सा पद्धति ‘सोवा रिग्पा’ भी असाध्य रोगों का उपचार कर सकती है। सोवा रिग्पा अस्पताल के निर्माण से 250 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा और हजारों लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा।

1617 वर्ग फुट में अत्याधुनिक अस्पताल बनाया जा रहा है
केंद्रीय उच्च तिब्बती शिक्षा संस्थान, सारनाथ में मोदी-योगी सरकार तीन हजार साल पुरानी तिब्बती चिकित्सा प्रणाली सोवा रिग्पा के लिए एक डबल बेसमेंट और नौ मंजिलों के साथ एक अत्याधुनिक इमारत का निर्माण कर रही है। नौ मंजिला अस्पताल के निर्माण के लिए कुल 19,404 वर्ग मीटर का आवंटन किया जाएगा। प्रथम चरण में चार मंजिलों के निर्माण पर 47.5 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। इसे दिसंबर तक शुरू करने की योजना है।

download This app

Read Also:-मथुरा के बांके बिहारी मंदिर में मंगला आरती के दौरान भीड़ के कारण दो लोगों की मौत हो गई और कई घायल हो गए

हेलीपैड, कांफ्रेंस हॉल और ऑडिटोरियम की मिलेगी सुविधा
अस्पताल में हेलीपैड होने से मरीजों को भी फायदा होगा। इमारत में सम्मेलनों सहित विभिन्न गतिविधियों के लिए एक आधुनिक सभागार होगा, जिसमें 500 लोग बैठ सकते हैं। देश के किसी भी अन्य बड़े केंद्र के विपरीत, यह केंद्र एक ही समय में सेमिनार, शिक्षण, अनुसंधान और रोगी देखभाल की पेशकश करेगा।

अस्पताल में मिलेगी ये सुविधाएं
सुविधाओं में एक ओपीडी, 6 सलाहकार कक्ष (ज्योतिष सलाहकार भी), एक प्रतीक्षालय, एक आपातकालीन कक्ष, एक गहन देखभाल इकाई, एक ऑपरेशन थियेटर, एक चिकित्सा कक्ष, एक फार्मेसी, एक कक्षा कक्ष, एक पुस्तकालय, एक संग्रहालय, एक प्रयोगशाला, और एक नक्षत्र कक्ष। इसके अलावा, कई सहायक विभाग और सुविधाएं होंगी जिनकी आवश्यकता होगी।

‘सोवा रिग्पा’ एक पुरानी और प्रामाणिक चिकित्सा प्रणाली है
केंद्रीय उच्च तिब्बती शिक्षा संस्थान, सारनाथ के रजिस्ट्रार हिमांशु पांडे के अनुसार, ‘सोवा रिग्पा’ की उत्पत्ति तिब्बत में हुई और यह दुनिया की सबसे पुरानी और सबसे प्रामाणिक चिकित्सा प्रणाली है। इस पद्धति का विस्तार करने के लिए सातवीं से आठवीं शताब्दी में तिब्बत के राजाओं द्वारा एक सम्मेलन आयोजित किया गया था, जिसमें फारस, चीन और तिब्बत सहित कई देशों के चिकित्सा विद्वानों ने भाग लिया था।

मंगोलिया, रूस, नेपाल, भारत और चीन के कई प्रांतों सहित कई देशों ने इस चिकित्सा पद्धति को अपनाया है। ‘सोवा रिग्पा’ पारंपरिक सिद्धांत और व्यावहारिक दोनों में समृद्ध है, जो नैदानिक ​​अभ्यास पर आधारित है।
उनकी आठ हजार से दस हजार के बीच रचनाएं प्रकाशित हो चुकी हैं। इसके अलावा, तीन से चार हजार के बीच ग्रंथ हैं।

वाराणसी में बनेगा हर्बल गार्डन, जो पैदा करेगा रोजगार
योगी-मोदी सरकार द्वारा इसका संरक्षण तिब्बती संस्कृति और परंपरा के संरक्षण में भी योगदान देगा। इसके उपचार में हिमालय क्षेत्र की जड़ी-बूटियों का उपयोग किया जाता है। अरुणाचल प्रदेश के तमांग में करीब 12,000 फीट की ऊंचाई पर पांच एकड़ का हर्बल गार्डन है। रजिस्ट्रार के अनुसार संस्था में एक हर्बल गार्डन भी स्थापित किया गया है। बाद में वाराणसी में हर्बल गार्डन बनाना भी संभव है, जिससे रोजगार पैदा होगा। संस्था में इलाज के लिए दवा बनाने में भी ‘सोवा रिग्पा’ पद्धति का उपयोग किया जाता है। रजिस्ट्रार के मुताबिक, इस पद्धति का इस्तेमाल कई तरह की लाइलाज बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

Follow Us On Google NewsClick Here
 Facebook PageClick Here
 Telegram Channel WbseriesClick Here
 TwitterClick Here
 Website Click Here
Join

Hi, My Name is Akash. I am an expert in writing News articles, I Have 2-4 Years of Experience, If You have any issues You Can Contact me Through Mail- [email protected]

Previous

महाराष्ट्र के ताम्हिनी घाट पर हुए भीषण हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई

Next

20 की उम्र में इस एक्ट्रेस पर चढ़ा बोल्डनेस का ऐसा खुमार, ब्रा पहनकर घर से निकल पड़ीं